कुसुम योजना – किसान उर्जा सुरक्षा और उथान महाअभियान के तहत नि:शुल्क सौर पंप सेट

KUSUM Yojana

kusum yojana Free Solar Pump Sets subsidy  yojana – केंद्र सरकार देश के योग्य लोगों को सौर पंप सेट प्रदान करने के लिए एक नई योजना शुरू कर रही है। इस योजना का नाम कुसुम योजना है। इस योजना के तहत, केंद्र सरकार पहले चरण में देश भर के 27.5 लाख नि:शुल्क सौर पंप सेट प्रदान करेगी। यह योजना इस साल

» Read more

प्रधानमंत्री जैविक खेती पोर्टल

Jaivik Kheti Portal

Pradhan Mantri Jaivik Kheti Portal – जैविक खेती पोर्टल  – माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए देश के किसानों के लिए ‘जैविक खेती पोर्टल’ का शुभारंभ करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी 16 मार्च से 18 मार्च 2018 तक नई दिल्ली में IARI पुसा में आयोजित कृषि उन्नती मेला (भारतीय कृषि मेला) में इस वेब पोर्टल का

» Read more

केंद्र सरकार की सभी योजनाओं के हेल्पलाइन नंबर

Central Government Schemes Helpline Numbers

Central Government Schemes Helpline Numbers – भारत की केंद्र सरकार ने माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में राष्ट्र के लोगों के विकास के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं। ये कल्याण योजनाएं विभिन्न श्रेणियों के लोगों और विभिन्न सामाजिक समूहों के लिए शरू की गई हैं। सभी सरकारी योजनाओं के पीछे मुख्य उद्देश्य गरीब लोगों के जीवन

» Read more

राष्ट्रीय अप्रेंटिस पदोन्नति योजना – ऑनलाइन पंजीकरण

राष्ट्रीय अप्रेंटिस पदोन्नति योजना

राष्ट्रीय अप्रेंटिस पदोन्नति योजना – भारत की केंद्रीय सरकार ने एक नई योजना शुरू की, जो कि राष्ट्रीय शिक्षुता संवर्धन योजना (एनएपीएस) है। राष्ट्रीय अप्रेंटिस पदोन्नति योजना की घोषणा 5 जुलाई, 2016 को हुई थी। यह योजना औद्योगिक औपचारिकता को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई है। इस योजना के अनुसार, युवाओं को उनके क्षेत्र के अनुसार औद्योगिक प्रशिक्षण

» Read more

डेयरी फार्मिंग नाबार्ड सब्सिडी का पूरा विवरण

डेयरी फार्मिंग नाबार्ड सब्सिडी

डेयरी फार्मिंग नाबार्ड सब्सिडी– डेयरी फार्मिंग भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में असंगठित और आजीविका का एक प्रमुख स्रोत है। डेयरी और कुक्कुट के लिए “उद्यम पूंजी योजना” 2005 में डेयरी फार्मिंग उद्योग को ढांचा प्रदान करने और डेयरी फार्मों, पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन विभाग को सहायता प्रदान करने के लिए शुरू किया गया था।

» Read more