प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना आपको दे सकती 50 लाख रुपये तक का लाभ जाने कैसे?

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana) का लाभ सभी गरीब लोगों ने लिया होगा परन्तु क्या आपको पता है कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना आप सभी को एक और सबसे बड़ा लाभ है। जो शायद ही आप जानते होंगे। चलिए हम आपको बताते है की इसका सबसे बड़ा दूसरा बड़ा लाभ क्या है।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना –

क्या आप जानते है की प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) के तहत मिलने वाले गैस सिलेंडर पर गैस कंपनी द्वारा 50 लाख रुपये तक का मुफ्त इंश्योरेंस दिया जाता है। इसका मतलब यह है की यदि रसोई में खाना पकाते समय एलपीजी सिलेंडर फट जाता है या फिर किसी प्रकार का हादसा होता तो इस स्थिति में क़ानूनी तोर पर पीड़ित परिवार को गैस कंपनी द्वारा 50 लाख रुपये तक का मुआवजा दिया जायेगा।

जैसा की आप जानते है की एलपीजी गैस सिलेंडर फटने की घटनाये होती रहती है लोगो की अज्ञानता के कारण गैस कंपनी से मिलने वाले इस मुआवजे का लाभ नहीं ले पाते है। क्योंकि इस बात की जानकारी बहुत काम लोगो को है।

कैसे मिलता है मुआवजा –

आप की जानकारी के लिए बता दे की LPG गैस सिलेंडर के फटने से होने वाले हादसे की भरपाई इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा दिया जाता है। आपको सुरक्षा और सुविधा के लिए गैस कम्पनिया आपके लिए इन इंश्योरेंस कंपनियों से पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी लेती हैं जो कि एक थर्ड पार्टी इंश्योरेंस होता है। इस इंश्योरेंस लाभ प्रदान करने के लिए गैस कंपनी प्रति वर्ष इंश्योरेंस कंपनियों को मोटी रकम देती हैं।

v

यह इंश्योरेंस पॉलिसी एक पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी है और यह किसी व्यक्ति विशेष के नाम इंश्योरेंस नहीं होता है बल्कि यह उपभोगता और उसके परिवार के लिए होता है। LPG उपभोगताओं के लिए यह इंश्योरेंस पॉलिसी बिलकुल मुफ्त होती है इसके लिए उपभोगता को किसी प्रकार का भुगतान नहीं करना होता है।

इसका सीधा और साफ मतलब यह है की यदि एलपीजी गैस सिलेंडर का उपयोग करते समय किसी प्रकार का हादसा होता है तो उससे होने नुकसान की भरपाई पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी के तहत इंश्योरेंस कंपनी द्वारा पीड़ित परिवार को मुआवजा देगी। यदि किसी कारण से बीमा कंपनी पीड़ित परिवार को मुआवजा देने से मना करती है या फिर इंश्योरेंस कंपनी द्वारा दी गई मुआवजा राशि से पीड़ित पक्ष संतुष्ट नहीं है तो वह अदालत में अपनी तहरीर दे सकते है। विपरीत परिस्थियों के अनुसार यदि मामला कोर्ट में जाता है तो कोर्ट मुआवजा की राशि पीड़ित की उम्र, आय और अन्य शर्तों के आधार पर तय करता है।

इंश्योरेंस क्लेम कैसे ले –

इंश्योरेंस कंपनी द्वारा मुआवजे की राशि जान माल के आधार पर तय करती है – जिसमे घर में होने वाले नुकसान, परिवार के सदस्यों को चोट लगना और किसी की उस हादसे में मौत होती है तब। इसी आधार पर मुआवजे की राशि तय की जाएगी। इस प्रकार के हादसों के लिए आपको गैस कंपनी से संपर्क करना होता है जिस कंपनी से आपने गैस कनेक्शन लिया है। यदि आपने सही समय पर आपने गैस सिलेंडर फटने से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए इंश्योरेंस कंपनी पर पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी के तहत क्लेम कर इसकी मांग करनी होगी अन्यथा आपको इसका लाभ नहीं मिल पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *