प्रधान मंत्री आवास योजना- शहरी गरीबों के लिए बनेंगे 40 हजार घर

प्रधान मंत्री आवास योजना

प्रधान मंत्री आवास योजना प्रधान मंत्री आवास योजना के अंतरगत केंद्र सरकार झारखण्ड के शहरी गरीबों के लिए  2,200 करोड़ रुपये की लागत और 40 हजार घर बनवाएंगे एव केंद्र सरकार 2022 तक शहरी गरीबो के लिए स्थायी आवास प्रदान करने की एक प्रधान मंत्री आवास योजना  योजना पर काम कर रही है अंतरगत गरीबो लिए घर 5 लाख 50 हजार रुपये की लागत से बनाया जाएगा। प्रधान मंत्री आवास योजना को दिन मंगलवार को कैविनेट की बैठक में  मंजूरी दे दी थी कैबिनेट सचिव सुरेंद्र सिंह मीणा कि इसके लिए केंद्र सरकार 600 करोड़ देगी। राज्य सरकार भी 600 करोड़ रुपए देगी और शेष एक हजार करोड़ की राशी बिल्डरों और जिन लोगों को घर आवंटित होंगे उनसे ली जाएगी।

झारखंड राज्य बोर्ड ऑफ हाउसिंग

जिन लोगों की भूमि आवास बोर्ड के लिए ली जाएगी। उन्हें 10 प्रतिशत जमीन दी जाएगी। इनमें से आठ प्रतिशत जमीन का उपयोग आवासीय उद्देश्यों के लिए किया जाएगा। दो प्रतिशत जमीन का उपयोग व्यावसायिक कार्य के लिए किया जाएगा। झारखंड सुधार ट्रस्ट 2002 के नियम 7 में संशोधन करते समय । मास्टर प्लान में याचिका के लिए 60 दिन की अब 30 दिन की हो गई है।

नियम10 के अनुसार

जिन लोगों की भूमि आवास बोर्ड के लिए ली जाएगी। उन्हें 10 प्रतिशत जमीन दी जाएगी। इनमें से आठ प्रतिशत जमीन का उपयोग आवासीय उद्देश्यों के लिए किया जाएगा। दो प्रतिशत जमीन का उपयोग व्यावसायिक कार्य के लिए किया जाएगा। झारखंड सुधार ट्रस्ट 2002 के नियम 7 में संशोधन करते समय । मास्टर प्लान में याचिका के लिए 60 दिन की अब 30 दिन की हो गई है।

v

अन्य महत्वपूर्ण निर्णय

  • विधानसभा की नियुक्ति में हुई गड़बड़ी की जांच के लिए बनाई गई जस्टिस विक्रमादित्य कमेटी का कार्यकाल 26 जून को पूरा हो रहा है। जिसे छह महीने के लिए और बढ़ा दिया गया है।
  • राज्य के विभिन्न नगर निकायों के लिए 1242 पदों की न्युक्ति की मंजूरी।
  • नॉकॉफ द्वारा खरीदे गए धान में से जिन किसानों को पैसा नहीं मिला है। उनका भुगतान झारखंड राज्य खाद्य एवं असैनिक आपूर्ति निगम के माध्यम से किया जाएगा।
  • झारखंड राज्य के कर्मचारी चयन आयोग की नियमावली तीन में संशोधन कर कंप्यूटर आधारित ऑनलाइन परीक्षा की स्वीकृति।
  • प्रेजा फाउंडेशन द्वारा कल्याण विभाग के तहत संचालित स्कूलों के बच्चों को ट्रेनिंग देने की स्वीकृति।
  • पलामू में इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए 48 करोड़ रुपए की मंजूरी।
  • कोडरमा के डोमचांच के वर्तमान बीडीओ सह सीओ रुक्म केस मिश्र ने सरकारी और वन भूमि की अवैध कब्ज़ा कर रखा था। अब वे पाकुड़ में कार्यपालक दंडाधिकारी हैं, उन्हें वहां से बर्खास्त कर दिया गया है।
  • लातेहार के मनिका प्रखंड के माइल मौजा की 30 एकड़ जमीन जवाहर नवोदय विद्यालय के लिए केंद्र सरकार को नि:शुल्क देने की मंजूरी।
  • राजकोषीय अध्ययन संस्थान के लिए 17 पदों की मंजूरी। इनमें एक निदेशक, तीन अपर निदेशक, दो शोध सहायक भी शामिल हैं।

हम आपको सूचित करना चाहते है कि यह कोई अधिकारिक वेबसाइट नहीं है। हमारा हमेशा से यही प्रयत्न रहता है की हम आपको सरकार की विभिन्न प्रकार की योजनाओ से समबन्धित सही जानकारी प्रदान करे। आमतौर पर योजनाओ की जानकारी का स्रोत अखबार, न्यूज़ चैनल और सरकार द्वारा चलाई गई वेबसाइट होती है, जिन्हें अलग - अलग स्रोतों से एकत्रित किया जाता है। इसके अलावा हमारा किसी भी सरकारी संस्था या सरकार से किसी भी प्रकार का कोई संबंध नहीं है। हमारा कार्य केवल सरकार की योजनाओ की सही जानकारी देना है हमारी वेबसाइट पर किसी भी व्यक्ति से किसी भी प्रकार का कोई डाटा नहीं लिया जाता हम आपसे अनुरोध करना चाहेंगे की आप हमारी वेबसाइट पर अपनी किसी भी प्रकार की पर्सनल जानकारी न डाले अगर आप ऐसा कुछ करते है तो इसके प्रति हमारी कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

About schemes-admin


मेरा नाम प्रदीप कुमार है में इस साइट में एडमिन के तौर पर काम करता हूँ मुझे हिंदी में लिखा अच्छा लगता है और में अपनी तरफ से कोसिस करता हुआ की जो पोस्ट में डालू उससे मरे यूजर को पूरी हेल्प मिले मुझे लिखना और साथ में चाय पीना अच्छा लगता है

DMCA.com Protection Status

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *