तेजी से प्रगति कर रही है प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की उज्ज्वला योजना

तेजी से प्रगति कर रही है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उज्ज्वला योजनाप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 मई, 2016 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) का शुभारंभ किया।

8,000 करोड़ रुपये की इस योजना का लक्ष्य देश के 5 करोड़ गरीबी रेखा से निचे के (बीपीएल) परिवारों को मुफ्त में एलपीजी कनेक्शन प्रदान करना है। जैसा कि योजना को सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना -2011के आंकड़ों के तहत 2019 तक मान्यता प्राप्त है। 2016-17 में योजना के तहत 1.5 करोड़ घरों का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। जो मंत्रालय ने सिर्फ 9 महीनों में हासिल किया था और वर्ष 2016 के अंत तक 2 करोड़ परिवारों को इस योजना के तहत कवर किया गया है।

PMUY की तेजी से प्रगति ने एलपीजी कनेक्शन के साथ देश में कुल एलपीजी कवरेज में 37% हिस्सा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के परिवारों का प्रतिशत बढ़ाया है। अल्पसंख्यकों में यह 13% तक बढा है। उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे   राज्यों को प्राथमिकता दी गयी है जहां एलपीजी का प्रयोग राष्ट्रीय औसत से नीचे है।

उज्ज्वला योजना मुख्य रूप से आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों की महिलाओं को समर्पित है,क्योंकि समय पर महिलाओं और बच्चों के जीवन को आसान और स्वस्थ बनाने के लिए योगदान करना आवश्यक है, ताकि वे जलाऊं लकड़ी और अन्य अस्वास्थ्यकर इंधन को इकट्ठा न करें।

एक बयान में तेल मंत्रालय ने कहा है कि वित्त वर्ष 2017 में, तीन ईंधन रिटेलर्स-इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम ने कुल 3.75 करोड़ नए एलपीजी कनेक्शन जारी किए हैं। जो किसी भी वर्ष में दिए गए सर्वोच्चतम संख्या है,ये कनेक्शन PMUY योजना के तहत शामिल हैं। नतीजतन,1 अप्रैल 2017 तक देश में एलपीजी कवरेज19.88 करोड़ सक्रिय उपभोक्ताओं से बढ़कर 72.8% तक चला गया। सफलताओं के अलावा, कई चुनौतियां भी हैं, जैसे की गरीब परिवारों की बीपीएल जनसंख्या और पहचान के प्रमाणित आंकड़ों की कमी, सब्सिडी का हस्तांतरण , क्योंकि इसमें कमियां शामिल हो सकती हैं।

You may also like :   प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना

इस महत्वाकांक्षी योजना का वास्तविक लाभ का पता करने के लिए, सरकार को उपयुक्त लाभार्थियों की पहचान, वितरण चैनल को मजबूत करने और योजना के अनुसार एलपीजी और सिलेंडर की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए एक उचित योजना का निर्माण करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *