उत्तर प्रदेश में बायोमैटिक उपस्थिति का आदेश | Order of biometric presence in Uttar Pradesh

उत्तर प्रदेश में बायोमैटिक उपस्थिति का आदेश

कर्मचारियों की समय पर उपस्थिति सुनिश्चित करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने कर्मचारियों के लिए बायोमेट्रिक उपस्थिति का आदेश दिया है और यह भी घोषित किया है कि जेनेरिक दवाओं की बिक्री के कम से कम 3000 दुकानें जल्द से जल्द खोली जाएं।

मुख्यमंत्री ने सभी सहकारी समितियों के पुनःप्रवर्तन की घोषणा की और गेहूं की खरीद लक्ष्य को 40 लाख मीट्रिक टन से बढ़ाकर 80 लाख मीट्रिक टन तक बढ़ा दिया गया है। शुक्रवार को लखनऊ में आयोजित विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक के दौरान ये निर्देश दिए गए थे।

सरकारी कार्यालयों में काम के तरीकों में सुधार होना चाहिए। कर्मचारियों को समय पर कार्यालय में आना चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए सभी सरकारी कार्यालयों में बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली शुरू की जानी चाहिए।मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि सीसीटीवी भी कमरों में स्थापित किए जाने चाहिए ताकि कर्मचारी पढ़ा रहे है या घूम रहे है इसका पता लगाया जा सके।

सरकारी विभागों के निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने अपने अनुभव के बारे में विस्तार से बताया। मुख्यमंत्री ने कहा की फ़ाइलों की हालत को देखने पर चौंक गया था क्योंकि उन पर धूल एकत्र हुई पड़ी थी। फ़ाइलों को ठीक से रखा जाना चाहिए। यदि संभव हो तो सरकार का काम डिजीटल माध्यम से होना चाहिए।

योगी ने स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, बुनियादी ढांचे के विकास और गृह समेत विभिन्न विभागों के काम की समीक्षा की और बताया की केंद्र सरकार ने जनता को सस्ती दवाइयां प्रदान करने के लिए एक योजना शुरू की है। लेकिन यह लाभ उत्तर प्रदेश के लोगों तक नहीं पहुंच पाया है क्योंकि पिछले सरकार ने सामान्य दवाइयों की बिक्री के लिए पर्याप्त दुकानें नहीं खोलीं हैं। उन्होंने अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि उत्तर प्रदेश में कम से कम 3000 ऐसी दुकानें खोली गईं जिससे जनता तक लाभ पहुंच सके।

उन्होंने कहा कि यूपी में स्वास्थ्य सेवाएं दयनीय हैं डॉक्टर अस्पताल में नहीं आते यह सरकार मरीजों को बेहतरीन दवाइयां प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है और सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि डॉक्टर अस्पताल में आयें और स्वास्थ्य सेवाएँ दुरुस्त हों।

प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत मकानों के निर्माण में देरी की ओर उनका ध्यान आकर्षित करते हुए योगी ने कहा कि लोगों को इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।इसलिए अब परियोजना को मॉनीटर किया जाना चाहिए। शहरी विकास विभाग पहले ही  निगरानी कर रहा था।

मुख्यमंत्री ने सभी सहकारी समितियों के पुनरुत्थान की घोषणा भी करते हुए कहा कि सहकारी तंत्र की मृत्यु के साथ किसानों को गुणवत्ता वाले बीज नहीं मिल रहे थे और इन सोसाइटी ने कृषि क्षेत्र का जबरदस्त नुकसान कर दिया था। उन्होंने सहकारी प्रिंसिपल सेक्रेटरी को जल्द से जल्द इन सोसाइटी को पुनर्जीवित करने के लिए कहा।

योगी ने गेहूं खरीद केंद्रों के बारे में भी पूछा और अधिकारियों से कहा कि गेहूं की खरीद लक्ष्य को 40 लाख मीट्रिक टन से लेकर 80 लाख मीट्रिक टन तक बढ़ाये जाने के लिए कहा।

गेहूं की खरीद में पारदर्शिता बनाए रखनी चाहिए अधिकारियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पैसा किसानों के बैंक खातों में सीधे पहुंच जाए।

इसके अलावा योगी ने सूखा और बाढ़ का सामना करने पर राज्य की तैयारियों की भी समीक्षा की और उन अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी जो इस दिशा में कोई कम नहीं करते थे।

योगी ने कहा अवैध खनन की खबर राज्य के किसी भी हिस्से से आने पर डीएम और एसएसपी दोषी होंगे।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से इलाहाबाद, मेरठ, आगरा, गोरखपुर और झाँसी में मेट्रो रेल के निर्माण के लिए एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने के लिए कहा।

Leave a Reply