निर्मला सीतारमण ने गरीबों के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की घोसणा की [जानें ]

pradhan mantri garib kalyan yojana

मोदी सरकार ने देश में हो रही कोरोना वायरस की वजहें से लॉकडाउन के आर्थिक प्रभाव का मुकाबला करने के लिए देशवासियों के लिए एक योजना की घोसणा की है जिसका नाम है प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना(Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana) | इस योजना के द्वारा केंद्रे सरकार ने 1.7 लाख करोड़ खर्च करने को कहाँ है | इस योजना का फायदा देश के गरीब किसान, मनरेगा , गरीब विधवाओं और जिन गरीब लोगों को पेंशन मिलती है साथ में इस योजना दिव्यांगों को भी होगा |

फाइनेंस मनिस्टर निर्मला सीतारामन् ने देश में हो रहे कोरोना वायरस की वजहें से हो रहे लॉकडाउन को देखते हुए कुछ घोषणा की हैं जिसके बारें में निचे पढ़े

इस योजना का लाभ उन महिलाओं को भी मिलेगा जिन्होंने अपना खाता जन धन योजना के तहत खुलवाया था | उनको भी 500 प्रति माह की पूर्व-व्यापी राशि मिलेगी |

8.69 करोड़ किसानों को इस योजना तहत 2000 रूपये की राशि किसान के खाते ट्रांसफर की जाएगी | ये राशि अप्रैल महीने के पहले हफ्ते में ट्रांसफर होगी |

जो भी मनरेगा मजदूरों को मिलने वाली राशि में 2,000 की बढ़ोतरी इससे पुरे देश में 5 करोड़ परिवारों को लाभ पहुंचेगा |

गरीब परिवार के लोगों को 1 किलो दाल मुफ्त मिलेगी |

इसके आलावा प्रधानमंत्री गरीब अन्न योजना के तहत प्रति माह अतिरिक्त 5 किलो चावल या गेहूं मिलेगा।

निर्मला सीतारमण ने यह भी घोसणा की हेल्थ वर्कर्स को 50 लाख का मेडिकल इंश्योरेंस कवर मिलेगा|

निर्मला सीतारमण ने कहाँ की हम नहीं चाहते की कोई भूखा नहीं रहे |

मेरा नाम प्रदीप कुमार है में इस वेबसाइट में एडमिन के तौर पर काम करता हूँ और मुझे हिंदी में लिखना अच्छा लगता है और में अपनी तरफ से पूरी कोशिश करता हूँ की जो पोस्ट में डालू उससे मेरे यूजर को पूरी हेल्प मिले मुझे लिखना और साथ में चाय पीना अच्छा लगता है।

You May Also Like

6 Comments

  1. Sir or maidum mai Maharastra k palghar,Boisar me rahta hu sir vaha par bahot log aishe hai jo ki bhukhmari k shikar ho rahe hai or yaha par koi bhi dhyan nahi de raha hai mai aapse request karta hu ki aap Boisar me jo log ish halat se ladne me adhyay hai aap unki madat k liye kuch kijiye.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *