नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना

नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना

महाराष्ट्र सरकार जल्द ही महाराष्ट के छोटे और मध्यम वर्ग के किसानों के लिए एक नई सरकारी योजना शुरू करने रही हैं जिसका नाम है नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना | इस योजना से किसानों को बहुत लाभ मिलेगा इस योजना के लिए महाराष्ट सरकार ने 4000 करोड़ रुपए खर्च करने का प्रश्ताव पास किया है |

नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना मुख्य उदेस्ये है की बहुत से महाराष्ट्र के किसान ऐसे है जिनका सूखाग्रस्त क्षेत्रों है वो खेती नहीं कर पाते | इस योजना के द्वारा महाराष्ट्र सरकार सूखाग्रस्त क्षेत्रों को सूखा मुक्त करेगी | जिससे किसान आराम खेती कर सके और अपने परिवार का पालन कर सके| इस योजना को महाराष्ट्र के 15 जिलों के 5,142 गांवों में शुरू किया जायेगा | जिससे किसानों की आय बढ़ेगी |

नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना के लाभ

  1. महाराष्ट्र के छोटे और मध्यम वर्ग के किसानों को नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना का लाभ मिलेगा |
  2. इस योजना के द्वारा महाराष्ट्र सरकार किसानों के लिए 4000 करोड़ रुपए खर्च करेगी |
  3. 2800 करोड़ रुपए महाराष्ट्र सरकार विश्व बैंक से क़र्ज़ लेगी बाकी अन्य राज्यों से मदद लेने को कहाँ है |
  4. इसके लिए इस समिति तैयार की जाएगी जो सूखाग्रस्त गांवों की जानकारी देगी ये सब कृषि सचिव के नेतृत्व में होंगे |
  5. इस योजना से महाराष्ट्र के 15 जिलों के 5,142 गांवों को लाभ मिलेगा |
  6. इस योजना से महाराष्ट्र के किसानों को आय 6 वर्षों में दुगनी होगी \
  7. इस योजना से महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त क्षेत्रों को सूखा मुक्त बनाने में मदद मिलेगी |
  8. सूखाग्रस्त क्षेत्रों को लाभ मिलेगा |
  9. सरकार का मानना है की सूखा मुक्त होने के बाद धान की पैदावार को बढ़ावा मिलेगा |

योजना का तक शुरू होगी

इस योजना का लाभ 2018-19 के बीच में शुरू हो जाएगी उसके बाद इस योजना से 6 वर्षों में (2023-24) किसान की आय दूंगी कर हो जाएगी |

जाएदा जानकारी के आप योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जा कर देख सकते है

मेरा नाम प्रदीप कुमार है में इस वेबसाइट में एडमिन के तौर पर काम करता हूँ और मुझे हिंदी में लिखना अच्छा लगता है और में अपनी तरफ से पूरी कोशिश करता हूँ की जो पोस्ट में डालू उससे मेरे यूजर को पूरी हेल्प मिले मुझे लिखना और साथ में चाय पीना अच्छा लगता है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *