मुख्यमंत्री वास स्थल क्रय सहायता योजना बिहार PMAY-G

मुख्यमंत्री वास स्थल क्रय सहायता योजना बिहार, Mukhymantri Vaas Sthal Kray Sahayata Yojana Bihar, Bihar Awas Yojana, Bihar Mukhymantri Awas Yojana – बिहार सरकार ने अनुसूचित जाति (SC), अनुसूचित जनजातियों (स्थल), अन्य पिछड़े वर्ग (OBC) श्रेणी के लोगों के लिए राज्य में मुख्यमंत्री वास स्थल क्रय सहायता योजना शुरू की है। इस योजना के तहत, राज्य सरकार अपने घरों की तैयारी के लिए भूमि खरीदने के लिए 60,000 रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। सरकार ने यह सरकारी योजना इस लिए शुरू की है ताकि सभी निर्धन परिवार अपने सपनो का घर खरीद सके। इतना ही नहीं केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी आवास योजना यानी प्रधान मंत्री आवास योजना ग्रामीण (पीएमएवाई-जी) के तहत सभी पात्र नागरिको को अपना नए घरों के निर्माण के लिए 1.2 लाख रूपये की धनराशी उपलब्ध कराई जाएगी।

Mukhymantri Vaas Sthal Kray Sahayata Yojana Bihar

बिहार के मुख्यमंत्री ने यह नई सरकारी योजना इस लिए शुरू की है ताकि इसके अंतर्गत, राज्य के सभी निर्धन परिवारों को आवास दिला सके इतना ही मुख्यमंत्री ने हाल ही राज्य के गरीब परिवारों के हितो को ध्यान में रखते हुए दो महत्वपूर्ण योजना लांच की है जिसमे से एक तो मुख्यमंत्री वास स्थल क्रय सहायता योजना तथा दूसरी मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास योजना है वैसे तो इस दोनों सरकारी योजना की अधिकारिक रूप से 15 अगस्त 2018 को पहली बार घोषणा कर दी गई थी इस योजना के अंतर्गत, नए घरों के निर्माण के लिए भूमि खरीदने के लिए कोई पंजीकरण शुल्क नहीं लगेगा।


बिहार मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना पोर्टल ऑनलाइन पंजीकरण

महत्वपूर्ण बिंदु
  • इस योजना के अंतर्गत, सभी निम्न वर्ग के परिवारों को नए घरो के निर्माण हेतु सरकार की ओर से 1 लाख 20 हजार रूपये की वित्तीय सहायता दी जाएगी
  • बिहार में कई परिवार ऐसे भी है जिनके पास अपना घर बनाने के लिए भूमि भी नहीं है तथा कुछ ऐसे ही जो अभी तक प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण का लाभ उठाने से वंचित है इस सभी लोगो का ध्यान रखते हुए बिहार सरकार ने यह योजना शुरू की है

बिहार ग्रामीण विकास विभाग मुख्यमंत्री वास स्थल क्रय सहायता योजना के तहत अगले 5 महीनों में लगभग 22,000 लोगों को सहायता प्रदान करने जा रहा है।

किसान पंजीकरण ऑनलाइन बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *