500 करोड़ की कौशल्या योजना को मध्य प्रदेश सरकार ने दी हरी झंडी

भोपाल सरकार ने इस वित्तीय वर्ष में 2 लाख महिलाओं को प्रशिक्षण देने के लिए कौशल्या योजना को शुरू करने जा रही है| इस योजना के लिए आईआईएम इंदौर, IISER,मैनिट, NIFT, इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों और आईटीआई के साथ मिलकर पंद्रह ट्रेड में महिलाओं को 15 दिन से लेकर 9 महीने तक का प्रशिक्षण दिया जाएगा जिसको NCVT नें मान्यता देगी| इस योजना पर वर्तमान वित्तीय वर्ष में 500 करोड़ रूपये खर्च किये जाएँगे| ये पैसे प्रधानमंत्री स्किल डेवलपमेंट योजना के लिए राज्य के दुसरे विभागों से जुटाई जाएगी| प्रत्येक महिला पर 11 हजार रूपये तक का खर्च आयेगा|

इस योजना के विषय में तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास विभाग की परियोजना परीक्षण समिति की बैठक में मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह की अध्यक्षता में हुई| मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विद्यार्थी पंचायत में अपनी बात रखी थी जिसके उपरांत पुरुषों के लिए मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन योजना और महिलाओं के लिए कौशल्या योजना को मंजूरी मिली| मुख्य सचिव ने बताया की इन योजनाओं के तहत प्रशिक्षण के दौरान गुणवत्ता पर खास ध्यान दिया जाएगा और निजी कंपनियों के साथ मिलकर प्रशिक्षण के बाद तत्काल रोजगार दिया जाएगा| कौशल्या योजना में प्रशिक्षण, प्रवेश,प्रशिक्षण देने वाली संस्थाओं का चुनाव और प्लेसमेंट की मॉनिटरिंग की भी व्यवस्था होगी | प्रधानमंत्री कौशल संवर्धन योजना में इस वित्तीय वर्ष में 2 लाख 50 हजार युवाओं को स्व-रोजगार का प्रशिक्षण दिया जाएगा

निम्न ट्रेडों में प्रशिक्षण दिया जाएगा

ऑटोमोटिव, ब्यूटी एंड वैलनेस, कैपिटल गुड्स, कंस्ट्रक्शन, एपेरेल और होम फर्नीशिंग, डोमेस्टिक वर्कर, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड हार्डवेयर, फूड प्रोसेसिंग, हैल्थ केयर, आईटी एंड आईटीईएस, रिटेल (सर्विस सेक्टर), सिक्योरिटी, टेलीकॉम, टूरिज्म एंड हॉस्पिटेलिटी और बैंकिंग फाइनेंशियल सर्विस एंड इंश्योरेंस। टूरिज्म एंड हॉस्पिटेलिटी के लिए आईएचएम या आईआईटीएम से बात की गई है। बैंकिंग ट्रेड के लिए आईसीएसआई से मदद लेंगे।

पंचायत एवं ग्रामीण विकास, आदिवासी जाति कल्याण, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास, श्रम विभाग आदि से योजना के लिए पैसा जुटाया जाएगा।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *