मुख्यमंत्री की हेल्पलाइन सेवा उत्तर प्रदेश

मुख्यमंत्री हेल्पलाइन उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश लोगों की समस्याओं का शीघ्रता से निपटन करने के लिए योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश सरकार की अगुवाई में शीघ्र ही मुख्यमंत्री की हेल्पलाइन सेवा शुरू करने जा रहे हैं।

मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ ने 24 अक्टूबर को यूपी कैबिनेट की अध्यक्षता वाली एक बैठक में  में इस योजना के संबंध में एक प्रस्ताव को मंजूरी दी।

सरकारी योजनाओं के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें 

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में मेला प्राधिकार (प्रयागराज मेला प्राधिकरण) के गठन के लिए मंत्रिमंडल ने भी मंजूरी दे दी है।

मुख्यमंत्री हेल्पलाइन उत्तर प्रदेश के संबंध में, पहले चरण में, एक कॉल सेंटर लखनऊ में स्थापित किया जाएगा।

v

उत्तर देते हुए यूपी के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा, “आम जनता की समस्याओं के निवारण के लिए, एक टोल फ्री मुख्यालय हेल्पलाइन सेवा शुरू की जाएगी। पहले चरण में, 24 घंटे चलने वाला एक कॉल सेंटर लखनऊ में स्थापित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि राज्य के किसी भी क्षेत्र के व्यक्ति मुख्यमंत्री हेल्पलाइन सेवा पर अपनी शिकायत कभ भी दर्ज करा सकते हैं।

इसके बाद शिकायत संबंधित विभाग को निपटारे के लिए भेजी जाएगी। एक बार विभाग द्वारा समस्या का निपटान होने पर, कॉल सेंटर शिकायतकर्ता से संपर्क करेगा और अगर समस्या हल नहीं हुई है तो संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई शुरू की जाएगी।

उन्होंने यह भी बताया कि इन कॉल सेंटरों की निगरानी मुख्यमंत्री और उनके कार्यालय द्वारा की जाएगी।

कैबिनेट की मंजूरी के बाद जल्द ही एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर और कॉल सेंटर के सेवाएँ राज्य में शुरू हो जाएंगी।

यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि अर्ध कुंभ मेले को अब कुंभ मेला कहा जाएगा और कुंभ मेले को महाकुंभ के रूप में जाना जाएगा। मंत्रिमंडल ने भी प्रयागराज मेला प्राधिकरण के गठन के लिए भी मंजूरी दे दी है। 201 9 में शुरू होने वाले अर्ध कुंभ मेले की भी तैयारी शुर हो रही है यह मेला अंतरराष्ट्रीय मानकों और पर्यटन के दृष्टिकोण से राज्य के लिए मुद्रा अर्जित करने वाला होगा।

सिंह ने कहा कि मंत्रिमंडल ने अनुबंध के आधार पर राज्य के नौ होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेजों में रिक्त पदों को भरने की भी मंजूरी दे दी है।

इसी तरह, गैर-सरकारी लेकिन अनुदानित विद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पदों पर संविदा आधार के पर  भरी जाएगी और आयु सीमा 70 साल तय की गई है।

सिंह ने यह भी कहा की बैठक में मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निजी क्षेत्रों की भागीदारी के लिए एक ढांचा बनाया गया है, ताकि सभी के लिए 2022 तक आवास सुनिश्चित किया जा सके।

हम आपको सूचित करना चाहते है कि यह कोई अधिकारिक वेबसाइट नहीं है। हमारा हमेशा से यही प्रयत्न रहता है की हम आपको सरकार की विभिन्न प्रकार की योजनाओ से समबन्धित सही जानकारी प्रदान करे। आमतौर पर योजनाओ की जानकारी का स्रोत अखबार, न्यूज़ चैनल और सरकार द्वारा चलाई गई वेबसाइट होती है, जिन्हें अलग - अलग स्रोतों से एकत्रित किया जाता है। इसके अलावा हमारा किसी भी सरकारी संस्था या सरकार से किसी भी प्रकार का कोई संबंध नहीं है। हमारा कार्य केवल सरकार की योजनाओ की सही जानकारी देना है हमारी वेबसाइट पर किसी भी व्यक्ति से किसी भी प्रकार का कोई डाटा नहीं लिया जाता हम आपसे अनुरोध करना चाहेंगे की आप हमारी वेबसाइट पर अपनी किसी भी प्रकार की पर्सनल जानकारी न डाले अगर आप ऐसा कुछ करते है तो इसके प्रति हमारी कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

About schemes-admin


मेरा नाम प्रदीप कुमार है में इस साइट में एडमिन के तौर पर काम करता हूँ मुझे हिंदी में लिखा अच्छा लगता है और में अपनी तरफ से कोसिस करता हुआ की जो पोस्ट में डालू उससे मरे यूजर को पूरी हेल्प मिले मुझे लिखना और साथ में चाय पीना अच्छा लगता है

DMCA.com Protection Status

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *