छत्तीसगढ़ सरस्वती साइकिल योजना – छात्राओं को मुफ्त साइकिल

क्या है? सरस्वती साइकिल योजना

भारत जैसे विकासशील देश में विशेष रूप से छात्राओं और अगली पीढ़ी के युवाओं के बीच साक्षरता दर को बढ़ावा देना जरुरी है| आदेश के अनुसार छत्तीसगढ़ सरकार ने सरस्वती साईकिल योजना शुरू की है जिसके तहत छात्राओं को मुफ्त साइकिल प्रदान करके उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा|

योजना को शुरू करने का कारण

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रिपोर्ट एक के मुताबिक, 2014-15 में माध्यमिक स्तर में छात्रों के स्कूल छोड़ने की प्रतिशत प्राथमिक स्कूल स्तर की तुलना में अधिक थी। स्कूल छोड़ने वाले छात्रों के अनुपात में इस वृद्धि के पीछे प्रमुख कारण ब्याज, गरीबी और आसपास स्कूलों का अभाव हैं। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से संबंधित छात्र स्कूल छोड़ने वाले बच्चों के बीच बड़े होते हैं विशेष रूप से छत्तीसगढ़ की राज्य में । स्कूल छोड़ने वालों लड़कों में से अधिकांश नौकरियों के लिए स्कूल छोड़ते हैं अपने गरीब परिवारों को समर्थन करने के लिए दूसरी तरफ लडकियों की या तो शादी हो जाती है या उन्हें काम करने के लिए जाना पड़ता है। गरीबी और शैक्षिक संस्थानों की दुरी की वजह से लड़कियों को स्कूल छोड़ना पड़ता है। आदेश में लड़कियों के स्कूल छोड़ने की दर को कम करने के लिए राज्य सरकार ने इस सरस्वती साइकिल योजना का शुभारंभ किया है ।

छत्तीसगढ़ में स्थिति

छत्तीसगढ़ में वर्ष 2000 में भारत के कई अन्य राज्यों की तुलना में स्कूल छोड़ने वालों का अनुपात अधिक था शैक्षिक वर्ष 2005-06 में किये गए एक अध्ययन के अनुसार छत्तीसगढ़ में बीस प्रतिशत से अधिक छात्रों ने माध्यमिक स्तर पर स्कूल छोड़ दिया था |माध्यमिक स्तर पर स्कूल छोड़ने वाले बच्चों के आंकड़ो में छत्तीसगढ़ दुसरे स्थान पर है | सरकार अनेक कदम उठा रही है की कोई स्कूल ना छोड़े जिनमें से राज्य सररकार की सरस्वती साइकिल योजना एक उपाय है जिससे लड़कियों को स्कूली शिक्षा जारी रखने में मदद मिलेगी|

छत्तीसगढ़ राज्य में सरस्वती साइकिल योजना के बारे में विस्तृत जानकारी

  1. लड़कियों की संख्या इस योजना के तहत 13,000 है
  2. इस योजना के तहत लड़कियों को फ्री में साइकिल पाने के लिए 8 वीं पास होना चाहिए
  3. इस योजना के लिए पंजीकृत छात्राओं की संख्या जांजगीर-चंपा जिले में 7500 है
  4. इस योजना के तहत राज्य की डीईओ (जिला शिक्षा अधिकारी) छात्राओं को फ्री में साइकिल प्रदान करने के लिए जिम्मेदार हैं ।
  5. अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति और बीपीएल (गरीबी रेखा से नीचे) परिवारों की लड़कियों को ही इस योजना के तहत फ्री में साइकिल मिलेगी।
  • आदेश के अनुसार लड़कियों को कम से कम बारहवीं तक शिक्षा दी जा सके इसके लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने अनुसूचित जाती और अनुसूचित जनजाती की लड़कियों को जो नौवीं कक्षा में हैं या जो अठारह साल से ऊपर की हैं उनको फ्री में साइकिल प्रदान कर रही है | BPL परिवारों की लड़कियां भी मुफ्त में साइकिल प्राप्त कर सकती हैं हर साल इस योजना से लड़कियों को लाभ प्राप्त होगा।
  • राज्य के आदिवासी लोगों का विकास करने के लिए तथा छात्रों को प्रोत्साहित करने के लिए शैक्षिक विभाग ने आदिवासी जाति कल्याण विभाग के साथ हाथ मिलकर कक्षा आठ के बाद अपनी उच्च शिक्षा जारी रखने के लिए लड़कों और लड़कियों दोनों के लिए फ्री में साइकिल प्रदान करता है ।

योजना से लाभ

सरकार द्वारा उठाए गए शिक्षात्मक कदमों के परिणाम के रूप में, स्कूल छोड़ने वाले छात्रों के प्रतिशत में काफी हद तक कमी आई है। छत्तीसगढ़ में ग्रामीण महिलाओं का साक्षरता प्रतिशत भारत में औसत साक्षरता दर बढ़ रहा है। 2011 की जनगणना से पता चलता है कि महिला साक्षरता दर में लगभग दस प्रतिशत की वृद्धि हुई है। ऐसी कोशिशों से और योजनाओं के साथ, हम देश भर में महिला साक्षरता दर में और अधिक वृद्धि करने की उम्मीद कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *