प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 1.17 लाख और सस्ते घर | 1.17 lakh cheap house under the Prime Minister’s Housing Scheme

प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत सरकार ने 1.17 लाख और सस्ते घर

सरकार ने मंगलवार को छह राज्यों में प्रधान मंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत शहरी गरीबों के लिए 117,814 और किफायती घरों का निर्माण करने के लिए मंजूरी दे दी है।जिसमें 5,773 करोड़ रुपये का कुल निवेश और 1,816 करोड़ रुपये की केन्द्रीय सहायता शामिल है।

इसके साथ ही पीएमएई (शहरी) के तहत स्वीकृत सस्ती घरों की कुल संख्या अब तक 1,760,507 तक पहुंच गई है।जिसमें 9 6, 1018 करोड़ रुपये का कुल निवेश और 27,714 करोड़ रुपये की केंद्रीय सहायता शामिल है।

आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्री एम वेंकैया नायडू ने मंत्रालय के अधिकारियों से यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि मंजूरी देने वाले घरों को शीघ्र ही बनाया जाये।

कर्नाटक के 234 शहरों और 31,424 कस्बों में नए घरों को मंजूरी दे दी गई है। साथ ही 1,222 करोड़ रुपये को परियोजना लागत के रूप में 518 करोड़ रुपये केंद्रीय सहायता के रूप में स्वीकृत किया गया है। लाभार्थी के निर्माण (बीएलसी) के घटक और साझेदारी घटक में किफायती आवास के तहत लगभग 30,247 घरों को मंजूरी दी गई है। जिससे राज्य के लिए प्रधान मंत्री कार्यालय (शहरी) के अंतर्गत स्वीकृत कुल घरों की संख्या 146,466 हो गई है।

केरल के 19 शहरों के लिए 11,480 नए घरों को बीएलसी के तहत मंजूरी दी गई है।जिसकी कुल लागत 344 करोड़ रुपये है, जिसकी केंद्रीय सहायता 170 करोड़ रुपये है। राज्य के लिए अब तक पीएमएई (शहरी) के तहत स्वीकृत घरों की कुल संख्या 28,236 तक बढ़ गई है।

मध्यप्रदेश जैसे अन्य राज्यों में मंगलवार को 27,714, बिहार में 25,221, झारखंड 20,0 99 और ओडिशा में 2,115 घर मंजूर किए गए हैं।

Leave a comment

* - Required fields

Disclaimer & Notice: For your kind information, this website is not an official website for any kind of government scheme and there is not any relation with any Govt. body. Please do not treat this website as the official website and do not leave your personal information on this website such as Aadhaar Number, Contact Details, Address and any other personal information in the comment box. It is very difficult for us to reply to every comment/query and we do not address any complaints regarding any government scheme. All the visitors are requested to visit the official website of the scheme and you can contact the concerned department/authority for any complaint related to the scheme published on the website.