गरीब बच्चों के लिए वरदान है मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना

मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना

मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना समाज में उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छा रखने वाले गरीब वर्ग के बच्चों के लिए वरदान साबित हुई है। अब किसी भी परिवार को बड़े संस्थानों में अपने बच्चों को भर्ती करने के लिए किसी से भी भीख मांगने की जरुरत नहीं पड़ेगी। चाहे उन्होंने जबलपुर की केशव राठौड़ आईआईटी में प्रवेश लिया हो या जसिनान पटेल में जिन्होंने एमबीबीएस में प्रवेश लिया है,उन छात्रों का मानना है की इस योजना ने हमारे माता-पिता को शैक्षिक व्ययों से मुक्त कर दिया है।

सरकारी योजनाओं के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें

मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना के तहत कुल 28,083 आवेदन प्राप्त हुए हैं। इनमें से 15,897 आवेदन विभिन्न संस्थानों द्वारा सत्यापित किए गए हैं और 6,816 आवेदन स्वीकृत किए गए हैं। शेष आवेदनों को मंजूरी देने की प्रक्रिया चल रही है।

राज्य में 21 कानून के, 145 चिकित्सा के, 327 इंजीनियरिंग और 54 पॉलीटेक्निक पाठ्यक्रमों के अलावा केंद्र सरकार के राज्य और राष्ट्रीय संस्थानों में चल रहे पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए 16 आवेदनों की कुल जांच की गई है। इसी तरह, राज्य में चल रहे विभिन्न स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए 15 हजार 72 छात्रों के आवेदनों की जांच की गई है।

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, एम पी और सीबीएसई / आईसीएसई 12 वीं परीक्षा में प्राप्त 85 प्रतिशत और उससे अधिक अंकों में 12 वीं की परीक्षा में 75% और उससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले छात्र योजना का लाभ उठा सकते हैं। इस योजना का लाभ उन छात्रों को दिया जा रहा है जिनके परिवार की वार्षिक आय 6 लाख रुपये से कम है।

Leave a Reply