अटल पेंशन योजना 53 लाख तक पहुंची | Atal Pension Scheme Arrived to 53 Million

वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि अटल पेंशन योजना (एपीवाई) जो कि असंगठित क्षेत्र से काम कर रहे गरीबों के लिए बुढ़ापे में आय सुरक्षा सुनिश्चित करती है। इसके उपभोक्ताओं की संख्या 53 लाख तक पहुंच गयी है।

230 से अधिक बैंक और भारतीय डाक विभाग को सरकार की प्रमुख सामाजिक सुरक्षा योजना के कार्यान्वयन में शामिल किया गया है। जो प्रोत्साहित करने और उपभोक्ता को अपनी सेवानिवृत्ति के लिए बचत करने पर केंद्रित है।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा की, “बैंकों की शाखाओं और भारत पोस्ट के कोर बैंकिंग समाधान-सक्षम कार्यालयों के अलावा, कुछ बैंक एक पेपर रहित माहौल में अपने इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल्स के माध्यम से सोर्सिंग कर रहे हैं।”

केंद्र सरकार के कर्मचारियों के राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) के योगदान के लिए शुरू APY योजना उसी निवेश पद्धति का पालन करती है।

वर्ष 2016-17 के दौरान, APY ने 13.91 प्रतिशत की वापसी अर्जित की।

APY ने उपभोक्ताओं को सशक्त बनाने के लिए, नए कार्यक्रम तैयार किए गए हैं जहां एक ग्राहक ईपीआरएएन (स्थायी रिटायरमेंट अकाउंट नंबर) कार्ड और लेन-देन का विवरण देख सकता है।

इसके अलावा, ग्राहक अपने पीआरएएन विवरणों को https://npslite-nsdl.com/CRAlite/grievance.sub.do पर शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

फिलहाल 62% पुरुषों के हैं और 38% खाते महिलाओं के हैं।

अधिकांश ग्राहकों ने मासिक प्रीमियम का विकल्प चुना है। – लगभग 97.5 फीसदी ग्राहकों ने मासिक प्रीमियम दिया है, लगभग 0.8 प्रतिशत ने तिमाही प्रीमियम और 1.7 प्रतिशत लोगों ने अर्ध वार्षिक प्रीमियम दिया है। “अधिकांश सदस्यों ने 1,000 रुपये की मासिक पेंशन का विकल्प चुना है। वर्तमान में 51.5 फीसदी ग्राहकों ने 1,000 रुपये की मासिक पेंशन का विकल्प चुना है और 34.5 फीसदी ग्राहकों ने 5,000 रुपये की मासिक पेंशन का विकल्प चुना है।”

अटल पेंशन योजना 1 जून, 2015 से चालू है और 18-40 साल के आयु वर्ग के सभी नागरिकों के लिए उपलब्ध है।

इस योजना के तहत, एक ग्राहक को 60 से साल की उम्र से 1,000 रुपये प्रति माह या 5,000 रुपये प्रति माह की न्यूनतम गारंटी वाली पेंशन मिलेगी।

उसी पेंशन का भुगतान ग्राहक के पति या पत्नी पर होगा और ग्राहक और पति या पत्नी दोनों के निधन पर, संचित पेंशन संपत्ति नामांकित व्यक्ति को वापस कर दी जाएगी। (आईएएनएस)

Leave a Reply